Kishore Jena Biography in Hindi: पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए भारत को मिला नया भाला फेंक खिलाड़ी!

Roshani Shakya
15 Min Read

Kishore Jena Biography in Hindi: भारतीय खेल जगत में एक नया सितारा उदित हुआ है। जी हां, हम बात कर रहे हैं ओडिशा के किशोर जेना (Kishore Jena) की, जिन्होंने हाल ही में एशियाई खेलों 2023 में भाला फेंक में रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया। एक साधारण किसान परिवार में जन्मे किशोर (Kishore Jena) ने अपनी प्रतिभा और लगन से न सिर्फ अपने परिवार का नाम रोशन किया, बल्कि पूरे देश को गौरवान्वित किया है। नीरज चोपड़ा के बाद अब किशोर जेना भारतीय भाला फेंक का भविष्य बनकर उभरे हैं। अपने पहले ही एशियाई खेलों में उन्होंने 87.54 मीटर दूर भाला फेंककर रजत पदक अपने नाम किया। यह किसी भी भारतीय भाला फेंक खिलाड़ी द्वारा दर्ज किया गया दूसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इससे पहले सिर्फ ओलंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा ही इससे बेहतर कर पाए हैं। किशोर जेना का सफर आसान नहीं रहा। एक मामूली परिवार से निकलकर उन्होंने अपनी मेहनत और जुनून के दम पर यह मुकाम हासिल किया है। बचपन से ही खेलों में रुचि रखने वाले किशोर ने पहले वॉलीबॉल खेला, लेकिन फिर भाला फेंक की ओर मुड़ गए। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत महज 250 रुपये के बांस के भाले से की थी।

आज के इस विशेष लेख के जरिए हम आपसे किशोर जेना का जीवन परिचय (Kishore Jena Biography in Hindi) उनके संघर्ष इत्यादि के बारे में बताने जा रहे हैं इसलिए हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें…

किशोर जेना का जीवन परिचय

नामकिशोर जेना
आयु28 वर्ष
पिता का नामकेशव जेना
माता का नामहरप्रिया जेना
जन्म6 September 1995
जन्म स्थानओडिशा के पुरी जिले में कोथासाही गांव
शिक्षास्नातक 
कार्यभाला फेंक खिलाड़ी
पुरस्कारकई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण पदक विजेता
इंस्टाग्राम प्रोफ़ाइल👉 Click Me

किशोर जेना कौन हैं? (Who is Kishore Jena?)

किशोर जेना (Kishore Jena), ओडिशा के पुरी जिले के एक किसान परिवार से आने वाले भारतीय धावक और क्षेत्रीय खिलाड़ी हैं, जिनकी विशेषता भाला फेंकने में है। उन्होंने 2023 एशियाई खेलों में पुरुषों के भाला फेंकने के इवेंट में चांदी पदक जीतकर अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त की, जहां उनकी व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ फेंक 87.54 मीटर थी। उन्होंने अपनी प्रगति को जारी रखते हुए बुदापेस्ट में 2023 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पांचवीं स्थानीयता हासिल की^2। जेना अब पैटियाला, भारत में स्थित नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (NSNIS) में अनुभवी कोचों के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण ले रहे हैं और पेरिस 2024 ओलंपिक्स के लिए तैयारी कर रहे हैं।

किशोर जेना की प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

किशोर जेना (Kishore Jena) का जन्म ओडिशा के पुरी जिले के एक किसान परिवार में हुआ था। बचपन से ही उन्हें खेलों में रुचि थी और वह अपने गांव में हर खेल में भाग लेते थे। आर्थिक कठिनाइयों के बावजूद, किशोर के पिता ने उनके सपनों को रोकने की कोशिश नहीं की।

किशोर (Kishore Jena) ने अपनी स्कूली शिक्षा अपने गांव के सरकारी स्कूल से पूरी की। उन्होंने बचपन से ही खेलों में अपनी प्रतिभा दिखानी शुरू कर दी थी। उनकी प्रतिभा को देखते हुए, उनके शारीरिक शिक्षा के शिक्षक ने उन्हें भाला फेंक की ओर प्रोत्साहित किया। किशोर ने भुवनेश्वर में एक खेल अकादमी में प्रशिक्षण लेना शुरू किया। यहां उन्होंने भाला फेंक की बारीकियां सीखीं और अपने कौशल को निखारा। प्रशिक्षण के दौरान उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत करते रहे। किशोर ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई प्रतियोगिताओं में भाग लिया और पदक जीते। 2023 में उन्होंने हांगझोऊ एशियाई खेलों में रजत पदक जीता, जहां उन्होंने 87.54 मीटर का थ्रो किया । इसके बाद उन्होंने बुडापेस्ट विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पांचवां स्थान हासिल किया।

किशोर अब 2024 पेरिस ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में एक प्रशिक्षण शिविर में भाग लिया। वह वर्तमान में पटियाला के नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स में प्रशिक्षण ले रहे हैं। किशोर का लक्ष्य ओलंपिक में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना और पदक जीतना है।

किशोर जेना का परिवार और शादी 

किशोर जेना (Kishore Jena) का परिवार ओडिशा के पुरी जिले के एक छोटे से गांव कोठासाही का रहने वाला है। किशोर के पिता एक किसान हैं जो धान की खेती करते हैं और अपने बेटे के भाला फेंक के जुनून का समर्थन करते हैं।

किशोर पिछले दो सालों से अपने घर नहीं गए हैं। वह अपने माता-पिता के चेहरे को देखने के लिए तरस रहे हैं। किशोर के माता-पिता स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से अनजान हैं, जिससे उनके लिए नियमित रूप से उनसे संवाद करना मुश्किल हो जाता है। किशोर ने 2015 में वॉलीबॉल खेलना छोड़कर भाला फेंक में करियर शुरू किया था। उनके परिवार ने उनके इस फैसले का समर्थन किया और उन्हें प्रोत्साहित किया। आज किशोर भारत के उभरते हुए भाला फेंक खिलाड़ियों में से एक हैं।

2023 एशियाई खेलों में रजत पदक जीतने के बाद किशोर जेना को उनके गृह राज्य ओडिशा में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भुवनेश्वर में सम्मानित किया। किशोर के परिवार और पूरे गांव को उनकी इस उपलब्धि पर गर्व है। किशोर जेना (Kishore Jena) अभी अविवाहित (Unmarried) हैं। 

किशोर जेना का करियर (Kishore Jena’s career)

किशोर जेना (Kishore Jena) भारत (India) के एक उभरते हुए भाला फेंक खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपने संघर्षपूर्ण जीवन में कड़ी मेहनत से सफलता हासिल की है। ओडिशा के पुरी जिले के एक छोटे से गांव कोठासाही में जन्मे किशोर ने अपने करियर की शुरुआत वॉलीबॉल खिलाड़ी के रूप में की थी। 

लेकिन भुवनेश्वर के स्पोर्ट्स हॉस्टल में प्रशिक्षण के दौरान कोच लक्ष्मण बराल ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्हें भाला फेंक की ओर प्रेरित किया। जेना ने कड़ी मेहनत से भाला फेंक में महारत हासिल की और 2017 में 72.77 मीटर के थ्रो के साथ ओडिशा का रिकॉर्ड बनाया। 2018 में उन्हें CISF में नौकरी मिली जहां कोच जगबीर सिंह ने उनकी प्रतिभा को निखारा। जेना ने 2022 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप में कांस्य जीता और 2023 में 84 मीटर से अधिक के थ्रो के साथ कई प्रतियोगिताएं जीतीं। जेना का सबसे बड़ा उपलब्धि 2023 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में आई जहां वे 84.77 मीटर के थ्रो के साथ पांचवें स्थान पर रहे। इसके बाद हांगझोऊ एशियाई खेलों 2023 में जेना ने 87.54 मीटर के थ्रो के साथ रजत पदक जीता, जो किसी भारतीय भाला फेंक खिलाड़ी द्वारा नीरज चोपड़ा के बाद दूसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। इस ऐतिहासिक उपलब्धि के साथ जेना ने खुद को भारत के शीर्ष एथलीटों में स्थापित कर दिया।

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने हाल ही में भुवनेश्वर में किशोर जेना का सम्मान किया और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। 28 वर्षीय जेना अब 2024 पेरिस ओलंपिक (2024 Paris Olympic) की तैयारी में जुटे हैं जहां उनका लक्ष्य पोडियम फिनिश करना है। अपनी कड़ी मेहनत, लगन और प्रतिभा के दम पर किशोर जेना (Kishore Jena) ने साबित कर दिया है कि वे भारतीय एथलेटिक्स (Indian Athlete) के भविष्य हैं।

किशोर जेना की उपलब्धियां (Kishore Jena Achievements)

किशोर जेना (Kishore Jena) की पांच प्रमुख उपलब्धियां:

  • एशियन गेम्स 2022 में रजत पदक: किशोर जेना (Kishore Jena) ने हांगझोऊ एशियन गेम्स 2022 में पुरुषों की भाला फेंक प्रतियोगिता में 87.54 मीटर के थ्रो के साथ रजत पदक जीता। उन्होंने हमवतन नीरज चोपड़ा (88.88 मीटर) के साथ प्रतिस्पर्धा करते हुए भारत को इस इवेंट में ऐतिहासिक 1-2 फिनिश दिलाई।
  • विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2023 में 5वां स्थान: जेना बुडापेस्ट में आयोजित विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2023 में 5वें स्थान पर रहे, जबकि नीरज चोपड़ा ने स्वर्ण पदक हासिल किया। यह उनका वर्ल्ड चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।
  • पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए क्वालीफाई: एशियन गेम्स में 87.54 मीटर के थ्रो के साथ, जेना ने पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए क्वालीफिकेशन मार्क हासिल किया। वह पहली बार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।
  • इंडियन ग्रां प्री 5 2023 में स्वर्ण पदक: किशोर जेना (Kishore Jena) ने 10 सितंबर 2023 को चंडीगढ़ में आयोजित इंडियन ग्रां प्री 5 में पहले प्रयास में 82.53 मीटर के थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी विकास यादव (72.88 मीटर) को पीछे छोड़ा।
  • व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन: जेना का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ थ्रो 87.54 मीटर है, जो उन्होंने एशियन गेम्स 2022 में हासिल किया था। वह लगातार अपने प्रदर्शन में सुधार करने और 90 मीटर के आंकड़े को छूने की कोशिश कर रहे हैं।

किशोर जेना के बारे में रोचक तथ्य (Interesting facts about teen Jenna)

  • किशोर जेना (Kishore Jena), एक भाला फेंक खिलाड़ी (Javelin throw player), ओडिशा के पुरी जिले के एक किसान परिवार से हैं। वहां से उन्होंने अपने खेल की यात्रा शुरू की और अब वह अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
  • जेना ने 2023 एशियन गेम्स में भाला फेंक प्रतियोगिता में भारत को ऐतिहासिक सिल्वर मेडल दिलाया। उनकी फेंक की दूरी 87.54 मीटर थी, जो उनके व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रयास है।
  • जेना ने 2023 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया, जहां उन्होंने पांचवें स्थान पर खुद को स्थापित किया। उनकी यह उपलब्धि उनकी साहस और समर्पण को दर्शाती है।
  • जेना ने पेरिस 2024 ओलंपिक में भाग लेने के लिए क्वालीफाई किया है। उनका लक्ष्य पदक जीतना है, लेकिन वह समझते हैं कि यह पूरी तरह से उनके नियंत्रण में नहीं है। उनकी प्राथमिकता अपने पहले ओलंपिक में अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है।
  • जेना वर्तमान में पटियाला में नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (NSNIS) में प्रशिक्षण ले रहे हैं और मई में होने वाली 2024 डायमंड लीग सीज़न के दोहा चरण के साथ अपने सीज़न की शुरुआत करेंगे। वह अपने खेल में सुधार करने के लिए निरंतर कठिनाई से जूझ रहे हैं।

निष्कर्ष

किशोर जेना (Kishore Jena) का सफर प्रेरणादायक है। उन्होंने साबित कर दिया है कि मेहनत और लगन से कोई भी मुकाम हासिल किया जा सकता है। खेल प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं और वित्तीय सहायता का भी उन्होंने जिक्र किया है। जेना (Kishore Jena) का मानना है कि भारतीय खिलाड़ियों को अपनी मानसिकता में बदलाव लाकर यह सोचने की जरूरत है कि वे किसी से कम नहीं हैं। पेरिस ओलंपिक 2024 में पदक जीतने के लिए प्रतिबद्ध जेना भविष्य में और कई सफलताएं हासिल करने को तैयार हैं।

Frequently Asked Questions

किशोर जेना ने हाल ही में किस प्रतियोगिता में रजत पदक जीता? 

किशोर जेना ने 2023 एशियाई खेलों में भाला फेंक स्पर्धा में 87.54 मीटर के सर्वश्रेष्ठ प्रयास के साथ रजत पदक जीता।

किशोर जेना का पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए क्या लक्ष्य है?

किशोर जेना का लक्ष्य पेरिस ओलंपिक 2024 में पदक जीतना है, लेकिन वह अपने पहले ओलंपिक में अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे।

किशोर जेना किस राज्य के हैं और उनका पारिवारिक पृष्ठभूमि क्या है? 

किशोर जेना ओडिशा के पुरी जिले के एक किसान परिवार से हैं। किशोर जेना ने हाल ही में किस प्रतियोगिता में भाग लिया और उनका प्रदर्शन कैसा रहा? उत्तर: किशोर जेना ने हाल ही में डायमंड लीग में भाग लिया लेकिन 76.31 मीटर के सर्वश्रेष्ठ प्रयास के साथ फाइनल राउंड के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए।

किशोर जेना वर्तमान में कहाँ प्रशिक्षण ले रहे हैं और आगामी प्रतियोगिताओं की तैयारी कैसे कर रहे हैं? 

किशोर जेना वर्तमान में पटियाला में नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (NSNIS) में प्रशिक्षण ले रहे हैं। वे मई में होने वाली 2024 डायमंड लीग सीज़न के दोहा चरण के साथ अपने सीज़न की शुरुआत करेंगे। किशोर जेना पेरिस 2024 के लिए खुद को मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

साथियों उम्मीद है की किशोर जेना का जीवन परिचय (Kishore Jena Biography in Hindi) की यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी। अगर आपको यह जानकारी पसंद आयी है तो हमें कमेंट करके जरूर बताना।

roshni writer

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोशनी शाक्या है और मैंने पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है।, मैं इस ब्लॉग की लेखिका हूं और इस वेबसाइट के माध्यम से योजना समाचार, बायोग्राफी और सरकारी योजनाओं से संबंधित सभी जानकारी साझा करती हूं। ताकि आपको सही और सटीक जानकारी प्राप्त हो सके।

WhatsApp Channel Join Now
Share This Article
Leave a comment